टेलीफोन क्या है

Telephone एक ऐसा device पूरी दुनिया के समीकरण को बदल कर रख दिया। किसी भी व्यक्ति को दूर बैठे दुसरे व्यक्ति तक अपनी बात पहोंचानी हो कुछ ही सेकंड में टेलीफोन से कॉल करकर अपनी बात बयाँ कर सकता हैं। अगर टेलीफोन नही होता तो आज भी हमें कबूतर जा जा करना पड़ता। हमारी जरुरतो को आसान बनाने का पूरा credit टेलीफोन को ही जाता हैं। नही तो आज के निब्बा निब्बी रात भर क्या ही करते। खेर मजाक अपनी जगह लेकिन पूरी दुनिया को टेलीफोन ने एक केंद्र में स्थापित कर दिया। आज हम जब चाहे जिसे चाहे उसे कुछ ही सेकंड में कॉल करकर बात कर सकते हैं। 

Telephone का अविष्कार कब और किसने किया?

अंततः सवाल यही उठता हैं की टेलीफोन अस्तित्व में आया कैसे? Telephone का अविष्कार किसने किया? टेलीफोन का इतिहास? भारत में टेलीफोन की शुरुआत कैसे हुई आदि। तो चिंता मत कीजिये हम है न इससे रूबरू करवाने के लिए। बस कुर्सी की पेटी बांध लीजिये, तो चलिए शुरू करते हैं।



Telephone क्या हैं? | Telephone kya hai?

टेलीफोन (Telephone) जिसे "फोन" भी कहाँ जाता हैं। यह एक telecommunication device है जो एक निश्चित दूरी पर ध्वनि संदेश और डेटा जैसी ध्वनि भेजता और प्राप्त करता है। टेलीफोन शब्द ग्रीक मूल के टेली से लिया गया है, जिसका अर्थ है दूर, और फोन, जिसका अर्थ है आवाज या ध्वनि। व्यापक अर्थों में, टेलीफोन एक विशिष्ट प्रकार का दूरसंचार है जो लोगों को लगभग किसी भी दूरी पर सीधी बातचीत करने की अनुमति देता है।

आज आपने क्या सीखा

आशा हैं हमारा यह प्रयास सफल रहा होगा और आपको कुछ वैल्यू ज़रूर मिली होगी। तो आज आपने इस आर्टिकल Telephone क्या हैं, Telephone का अविष्कार कब और किसने किया, टेलीफोन आविष्कारक अलेक्जेंडर ग्राहम बेल से जुड़े रोचक तथ्य, Telephone को हिंदी में क्या कहते हैं, टेलीफोन का patent कब कराया गया था, Telephone को आम जनता के लिए कब पेश किया गया था, टेलीफोन के आविष्कार के बाद अलेक्जेंडर ग्राहम बेल के शुरुआती शब्द क्या थे, टेलीफोन के लाभ एव हानि , भारत में टेलीफोन सेवा का शुरू हुई आदि जाना। और रोचक जानकारी के लिए जुड़े रहिये। धन्यवाद 

एक टिप्पणी भेजें

Post a Comment (0)

और नया पुराने