बुद्ध पूर्णिमा । BUDDHA PURNIMA | बुद्ध पूर्णिमा क्यों मनाई जाती है?

नमस्कार दोस्तो ।

आज यानी कि 26 मई को हम बुद्ध जयंती के रूप में मना रहे है, जिसे बुद्ध पूर्णिमा भी कहा जाता है।कहा जाता है कि बुद्ध पूर्णिमा वैशाख पूर्णिमा के दिन मनाई जाती है। ओर श्रद्धालुओं की मान्यता है कि इस दिन भगवान बुद्ध का जन्म हुआ था और कठिन साधना एवम तपस्या के बाद बुद्धत्व की प्राप्ति भी हुई थी। यह त्योहार हिंदू और बौद्ध धर्म को मानने वाले लोगों के लिए बहुत खास है।बता दे कि बुद्ध भगवान श्री हरि विष्णु के 9वें अवतार थे। 


आइये जानते है बुद्ध पूर्णिमा मनाने का कारण?

 जीवन में बुद्ध भगवान ने जब हिंसा, पाप और मृत्यु के बारे में जाना, तब ही उन्होंने मोह-माया का त्याग कर दिया और अपना परिवार छोड़कर सभी जिम्मेदारियों से मुक्ति ले ली और सत्य की खोज में निकल पड़े। जिसके बाद उन्हें सत्य का ज्ञान प्राप्त हुआ। वैशाख पूर्णिमा की तिथि का भगवान बुद्ध के जीवन की प्रमुख घटनाओं से विशेष संबंध है, इसलिए बौद्ध धर्म में प्रत्येक वैशाख पूर्णिमा के दिन बुद्ध पूर्णिमा मनाई जाती है।

                       बुद्ध धर्म

बुद्ध धर्म के संस्थापक स्वंय महात्मा बुद्ध ही हैं। उन्होंने वर्षों तक कठोर तपस्या और साधना की, जिसके बाद उन्हें बोधगया में बोधिवृक्ष के नीचे ज्ञान की प्राप्ति हुई, उनको यही से बुद्धत्व की प्राप्ति हुई। फिर उन्होंने अपने ज्ञान से इसे पूरे संसार को आलोकित किया। अंत में कुशीनगर में वैशाख पूर्णिमा को उनका निधन हो गया।

                    इतिहास

हमारी चलित मोटर गाड़ी को पीछे ले जाते है। इतिहासकरो के अनुसार, भगवान बुद्ध का जन्म 563 ईसा पूर्व में नेपाल के कपिलवस्तु के पास लुम्बिनी में हुआ था। कपिलवस्तु उस समय से शाक्य महाजनपद की राजधानी थी। एवम लुम्बिनी वर्तमान में दक्षिण मध्य नेपाल का क्षेत्र है। इसी जगह पर तीसरी शताब्दी ईसा पूर्व में सम्राट अशोक ने भगवान बुद्ध के प्रतीक के तौर पर एक स्तम्भ बनवाया था। इतिहासकारों ने ये भी बताया है कि बुद्ध शाक्य गोत्र के थे और उनका वास्तविक नाम सिद्धार्थ था। इनके पिता का नाम शुद्धोधन था, जो शाक्य गण के प्रमुख थे और माता का नाम माया देवी था। सिद्धार्थ के जन्म से 7 दिन बाद ही उनकी माता का निधन हो गया था। इसके बाद सिद्धार्थ की परवरिश उनकी सौतेली मां प्रजापति गौतमी ने किया था।

          सिद्धार्थ से भगवान बुद्ध तक का सफर:-

भगवान बुद्ध ने महज 29 साल की आयु में संन्यास धारण कर लिया था। उन्होंने बोधगया में पीपल के पेड़ के नीचे 6 साल तक कठिन तप किया था। वह बोधिवृक्ष आज भी बिहार के गया जिले में स्थित है। बुद्ध भगवान ने अपना पहला उपदेश सारनाथ में दिया था। भगवान बुद्ध 483 ईसा पूर्व में वैशाख पूर्णिमा के दिन ही पंचतत्व में विलीन हुए थे। इस दिन को परिनिर्वाण दिवस कहा जाता है।

Post a Comment

Post a Comment (0)

Previous Post Next Post